अन्तर्राष्ट्रीय

80 प्रतिशत फ्रांसीसी युवा देश छोड़कर भागने की फ़िराक़ मेंः मारीन ले पेन

फ्रांस की उग्र दक्षिणपंथी पार्टी नैश्नल फ्रंट की नेता ने इस देश के राष्ट्रपति की नीतियों की कड़ी आलोचना की है।

मारीन ले पेन ने ट्वीट किया है कि फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां के काल में युवा बहुत अधिक हताश हैं। उन्होंने लिखा है कि मैक्रां की नीतियों ने फ़्रांस को बहुत ही बुरी हालत में पहुंचा दिया है।

मारीन ले पेन के अनुसार मैक्रां की नीतियां, फ़्रांस में अराजकता का कारण बनीं और फ़्रांसीसियों में मतभेद पैदा हो गए। उनका कहना हे कि मैं नहीं चाहती के हमारे देश के युवा पलायन करें बल्कि मेरा मानना है युवाओं पर पूंजी लगाई जाए और उनप विश्वास किया जाना चाहिए।

फ़्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां के पांच वर्षीय शासन काल में इस देश को कई प्रकार के संकटों का सामना रहा है जिनमें से एक, येलो जैकेट प्रदर्शन भी है। मैक्रां के काल में फ़्रांस में मंहगाई बहुत बढ़ी है जिससे कारण लोगों में ग़ुस्सा है।

एक सर्वेक्षण से पता चला है कि हर 4 फ्रांसीसियों में से तीन का यह मानना है कि उनकी क्रय शक्ति कम हुई है। 90 प्रतिशत फ़्रांसीसी आवास को लेकर बहुत चिंतित हैं। यही कारण हैं जिनकी वजह से फ़्रांस के अधिकांश लोग अपने भविष्य को लेकर बहुत अधिक परेशान हैं। फ़्रांस में राष्ट्रपति चुनाव 10 अप्रैल 2022 को आयोजित होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *