प्रदेश

अमेठी 15 वर्षीय नाबालिग किशोरी को मदरसे के शिक्षक एवं मदरसा संचालक ने मिलकर उसके घर में ही बलात्कार जैसी घिनौनी घटना को देना चाहा अंजाम मुकदमा दर्ज

रिपोर्ट:-आदित्य तिवारी

 

सरकार बालिकाओं की सुरक्षा के लिए कितनी भी योजनाएं क्यों न बना ले लेकिन बालिकाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है।चाहे वह घर हो परिवार हो अथवा स्कूल-कॉलेज बाजार हर जगह पर उनके ऊपर खतरा ही बनाता रहता है।जबकि सरकार वीमेन पावर लाइन तथा मिशन शक्ति जैसी योजनाएं चलाकर महिलाओं को सशक्त बनाने की कवायद में लगी हुई है लेकिन इसका असर कहीं भी देखने को मिल नहीं मिल रहा है इसका ताजा उदाहरण अमेठी जनपद में देखने को मिला है जहां पर शिवरतन गंज थाना क्षेत्र की रिपोर्टिंग चौकी इन्हौना अंतर्गत गांव की एक 15 वर्षीय नाबालिक किशोरी को मदरसे के शिक्षक एवं मदरसा संचालक ने मिलकर उसके ही घर में बलात्कार जैसी घिनौनी हरकत को अंजाम देना चाहा।

जी हां गुरु और शिष्य की मर्यादा को तार-तार करते हुए कलंकित करने वाला या मामला केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी के शिवरतनगंज थाना क्षेत्र की रिपोर्टिंग चौकी इन्हौना के अंतर्गत गांव से प्रकाश में आया है।जहां पर मदरसे में पढ़ने वाली 15 वर्षीय नाबालिग किशोरी को उसके ही मदरसे में पढ़ाने वाले अध्यापक तथा मदरसा संचालक द्वारा लगातार उसके साथ मदरसे में ही अश्लील हरकतें की जा रही थी।जिसकी कई बार शिकायत भी की गई हद तो तब हो गई जब पिछले माह 26 तारीख को किशोरी की मां बाजार गई हुई थी तभी मदरसा संचालक एवं अध्यापक दो अन्य लोगों के साथ किशोरी के घर आ पहुंचा।इन लोगों ने घर पहुंचते ही किशोरी के साथ अश्लील हरकतें करना शुरू कर दिया जब किशोरी ने इसका विरोध किया तब उन लोगों ने किसी नशीले पदार्थ की सहायता से किशोरी को बेहोश कर दिया तथा मुंह में कपड़ा ठूंस दिया।जिसके चलते किशोरी बेहोश हो गई।इसके बाद उसके साथ दुष्कर्म करने की कोशिश की तभी किशोरी की मां बाजार से वापस आ गई जिसकी भनक लगते चारों लोग मौके से फरार हो गए।मां जब अंदर गई तब वहां का नजारा देखकर वह दंग रह गई आनन-फानन में अपनी पुत्री को लेकर वह नजदीक के प्राइवेट हॉस्पिटल पहुंची।जहां पर उसका इलाज चला और दूसरे दिन किशोरी को चेतना आई।होश में आने के बाद किशोरी ने पूरी दास्तान अपनी मां को कह सुनाई।घर पर आए हुए 4 लोगों में से 2 लोगों को किशोरी ने पहचान लिया था जबकि दो अनजान लोग थे जिसको वह नहीं पहचान पाई।इसके बाद से मां-बेटी लगातार पुलिस चौकी के चक्कर काटती रही किंतु उसकी एक न सुनी गई।अंत में परेशान होकर पीड़िता एवं उसकी मां अपनी समस्या लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय गौरीगंज में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह के पास पहुंची और न्याय की गुहार लगाई।पुलिस अधीक्षक की दखल के बाद पीड़िता का मुकदमा पंजीकृत किया गया।इसके बाद अभियुक्तों की धरपकड़ एक दबिश दी जा रही है जबकि अभी तक किसी भी अभियुक्त की गिरफ्तारी सुनिश्चित नहीं की जा सकी है।पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आज प्रात पीड़िता के द्वारा इस मामले की तहरीर दी गई है जिस पर तत्काल मुकदमा पंजीकृत करते हुए अभी तो गणों की गिरफ्तारी के लिए टीम सक्रिय कर दी गई है शीघ्र अभियुक्तों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी इस मामले में धारा 354 (ख), 452, 506 तथा 342 के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *