प्रदेश

बलिया जिला अस्पताल की बड़ी लापरवाही इंजेक्शन लगाते ही 10 साल के मासूम की हुई मौत

रिपोर्ट:-संजय कुमार तिवारी

 

यूपी के बलिया जिला अस्पताल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है जिला अस्पताल में एक 10 साल के बच्चे की इंजेक्शन लगाने से मौत हो गई।वही परिजनों का रो रोकर बुरा हाल हो गया है।अचानक हुई घटना से बच्चे के माता-पिता सदमे में है।इस मामले पर बलिया सीएमएस ने बताया की घटना की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई होगी और मृतक बच्चे का पोस्टमार्टम कराया जायेगा।

बलिया जनपद के बैरिया थाना क्षेत्र के दयाछपरा गांव के रहने वाले मृतक बच्चे के माता-पिता का आरोप है की 3 दिन पहले हमारे बच्चे को गिरने की वजह से पैर में चोट लगी थी जिसका इलाज कराने जिला अस्पताल में आए थे।जहां बच्चे के पैर का प्लास्टर किया गया था प्लास्टर के बाद बच्चे को पैर में खुजली होने लगी तो परिजनों ने अपने बच्चे को दोबारा जिला अस्पताल में प्लास्टर को कटवाने के लिये जिला चिकित्सालय लाया।

जहाँ जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने बच्चे की तमाम जांच करवाई और बच्चे के प्लास्टर को काटा गया जिसके बाद परिजनों को बाहर से दवा लाने को कहा गया था जो लगभग आठ सौ रुपये की दवा जिला अस्पताल के बाहर से मंगाई गई थी।

इसी दौरान जिला अस्पताल के इमरजेंसी में तैनात चिकित्सक के द्वारा इंजेक्शन लगाया गया वही इंजेक्शन लगाने के बाद बच्चे ही बच्चे की मौत हो गयी।वही परिजनों ने आरोप लगाया कि हमारे बच्चे का इंजेक्शन लगाने के बाद बच्चे की मौत हो गई।

जब इस मामले पर जिला अस्पताल के सीएमएस ने इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि बच्चा मर चुका है बच्चे का पोस्टमार्टम कराने के बाद ही मौत के कारण का पता चल पायेगा।वही बाहर से दवा लिखे जाने के मामले पर कहा कि अस्पताल के चिकित्सको को बाहर की दवा लिखे जाने के लिए सख्त माना किया गया है अस्पताल में सारी दवाएं मौजूद है यदि ऐसा कुछ है तो जांच किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *