फोटो

बस्ती रेंजर सहित तीन वन कर्मियों को प्रभागीय निदेशक वन ने किया सस्पेंड

– एक तरफ सरकार जहां भ्रष्टाचार मुक्त करने का प्रयास कर रही है वही विभागों में भ्रष्टाचार रुकने का नाम नहीं ले रहा विभागीय कर्मचारी अधिकारी नए-नए तरीके ढूंढ कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में लगे हैं ताजा मामला बस्ती जिले के वन विभाग का है जहां रेंजर सहित 3 वन कर्मियों को प्रभागीय निदेशक वन ने सस्पेंड कर दिया है मामला पौधरोपण के दौरान पौधों की सुरक्षा हेतु लगाए जाने वाले बाड़ एवं पौधशाला में पौधों की सुरक्षा हेतु शिफ्टिंग कार्य ना कराकर पैसे का भुगतान करा लेने से सस्पेंशन की कार्यवाही की गई। जिसको लेकर वन कर्मियों में हड़कंप मच गया।

-बस्ती जनपद मे पौधरोपण अभियान में अनियमितता व पौधों के रखरखाव में लापरवाही बरतने पर प्रभागीय निदेशक नवीन कुमार शाक्य ने हर्रैया के वन रेंजर समेत तीन वन कर्मियों को सस्पेंड कर दिया और डिप्टी रेंजर को बस्ती स्थित मंडल कार्यालय से संबद्ध कर दिया गया। इससे विभाग में हड़कंप मच गया है।

प्रभागीय निदेशक के अनुसार हर्रैया के हसीनाबाद रूट पर पौधरोपित कर पौधों की सुरक्षा के लिए ट्रीगार्ड बनाए जाने थे। इसके अलावा यहां स्थापित नर्सरी को तार व पोल के बाड़ लगाकर सुरक्षित करने थे। विभागीय निरीक्षण के दौरान यहां कटीले तार व पोल सबकुछ तो उपलब्ध मिले थे लेकिन उनका उपयोग नहीं किया और लेवर चार्ज का भुगतान करा लिया। यही नहीं रोपे गए पौधों की सुरक्षा के लिए ट्रीगार्ड भी नहीं स्थापित कराए गए। इस लापरवाही के आरोप में विनोद कुमार नायक, वन रक्षक राजेंद्र राम वर्मा व पौधशाला प्रभारी प्रेमप्रकाश कन्नौजिया को निलंबित कर दिया गया और यहीं तैनात डिप्टी रेंजर अजय शंकर शुक्ल को मंडल कार्यालय बस्ती से संबद्ध कर दिया गया है।

प्रभागीय निदेशक नवीन शाक्य ने इस बारे में बताया कि हर्रैया रेंजर विनोद कुमार नायक, वन रक्षक राजेंद्र राम वर्मा व पौधशाला प्रभारी प्रेमप्रकाश कन्नौजिया को पौधरोपण में लापरवाही बरतने के कारण सस्पेंड कर दिया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *