प्रदेश

भयंकर सड़क हादसे में 2 की मौत 2 दर्जन से ज्यादा लोग हुए घायल

रिपोर्ट:-शारिक सिद्दीकी

 

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जनपद के मूंढापांडे थाना क्षेत्र के जीरो पॉइंट पर उस समय हड़कंप मच गया जब तेज रफ्तार बस अनियंत्रित होकर ट्रक से टकराते हुए एक दीवार में घुस गई हादसे में दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और दो दर्जन से ज़्यादा लोग घायल हो गए जिसमें से एक दर्जन से ज्यादा लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है,

छठ पूजा के लिए यात्री पंजाब से बिहार जा रहे थे, यात्री और प्रत्यक्षदर्शी का आरोप है ड्राइवर नशे में था जिसके चलते यह हादसा हुआ है घटना की जानकारी मिलते ही अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और घायलों को इलाज के लिए आनन-फानन में जिला अस्पताल भिजवाया है और साथ ही मृतकों के शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है।

मूंढापांडे थाना क्षेत्र के जीरो पॉइंट पर उस समय हड़कंप मच गया जब तेज रफ्तार बस अनियंत्रित होकर ट्रक से टकराकर एक दिवार में घुस गई और यात्रियों की चीख-पुकार से क्षेत्र में हड़कंप मच हादसा की आवाज सुनते ही लोग इकट्ठे हो गए और हादसे की जानकारी पुलिस को दी गई जानकारी मिलते ही पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और रेस्क्यू अभियान चलाया गया।

आनन-फानन में घायलों को एंबुलेंस के जरिए जिला अस्पताल ले जाया गया जहां अस्पताल में घायलों को भर्ती कर के डॉक्टर ने इनका इलाज शुरू कर दिया है, घटना के जानकारी यात्री और प्रत्यक्षदर्शी द्वारा बताया गया बस तीन रफ्तार में थी अनियंत्रित होकर ट्रक से टकरा गई और दूसरी साइड में दीवार में जा घुसी जिसमें 2 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई।

और दो दर्जन से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हो गए जिन को इलाज के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया है साथ ही ड्राइवर नशा करे हुए था जो यह बस चला रहा था जिसकी लापरवाही के चलते यह हादसा हुआ है,।

घटनास्थल पर पहुंचे पुलिस अधिकारी के अनुसार घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया है,और मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है,और लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्यवाही की बात अधिकारी द्वारा कही गई जा रही है।


घटना की गंभीरता को देखते हुए जिला अधिकारी मुरादाबाद राकेश कुमार सिंह और एसपी सिटी अमित कुमार अस्पताल पहुंच गए जहां उन्होंने जाकर घायलों से मुलाकात करी और डॉक्टरों को बेहतर इलाज के दिशा निर्देश की है, साथी गंभीर घायलों को हायर सेंटर रेफर करवाया और जरूरी व्यवस्थाओं का इंतजाम किया।


वैसे तो उत्तर प्रदेश पुलिस यातायात महीने के चलते जगह-जगह पर वाहन चेकिंग अभियान चला रही है लेकिन बस में अगर बस में मौजूद यात्री की माने तो 75 से 100 यात्री बस में मौजूद थे,जो कहीं ना कहीं कोरोना के दृष्टिगत गलत है और साथ ही ड्राइवर को भी नशे में बताया जा रहा है,।

अगर ड्राइवर नशे में था तो कहीं ना कहीं लापरवाही पुलिस प्रशासन की भी है अगर पहले ही उसका वाहन कही रोकर चैक करा होता और वह नशे में था तो उस पर कार्यवाही होती तो इतना बड़ा हादसा नहीं होता अब देखना यह होगा प्रशासन इस हादसे से क्या सीख लेता है,या लापरवाही बरतने वाले ड्राइवर लगातार इसी तरीके से मौत का वाहन सड़कों पर दौड़ आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *