प्रदेश

गोरखपुर में इन हिन्दू बहनों और मुस्लिम भाइयों का जिक्र हर जुबान पर, ऐसे पेश की एकता की मिसाल

रिपोर्ट:-रविन्द्र चौधरी

 

गोरखपुर में गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल पेश करते हुए मुस्लिम भाइयो ने हिन्दू बहनों से अपने हाथों पर राखियां बंधवा कर हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल कायम की है। साथ ही बहनों के आन,बान,शान की रक्षा की सौगंध ली है। बहनों ने भी भाइयो की तिलक लगा कर उनके दीर्घायु होने की कामना की है।गोरखपुर के लोको ग्राउंड में मुस्लिम समाज के नव जवानों ने समाज के उन असामाजिक तत्वों के ऊपर करारा प्रहार किया है, जो हिन्दू मुस्लिम के नाम पर समाज को बांट कर ओछी राजनीति करते है। मुस्लिम भाइयो ने बेहिचक हिन्दू बहनों से राखी बंधवाई और समाज को एक संदेश दिया कि हिन्दू मुस्लिम एकता को तोड़ा नहीं जा सकता, जैसे हमारे लिए हमारी बहने है, उसी तरह हिन्दू समाज की भी बहनें है।और उपहार में सेनेटाइजर और मास्क दिया।

वही राखी बांधने के बाद हिन्दू बहनों ने कहा कि कुछ धर्म के ठेकेदारों ने समाज को बांटने का काम किया है। जोड़ने का काम बहुत कम लोगों ने किया है, हम लोगों ने मुस्लिम भाइयो को राखी बांध कर एक सन्देश देने का काम किया है कि हम एक है, एक रहेंगे। हमें हमारे मकसद से कोई हटा नहीं सकता। हमारी एकता को कोई डिगा नहीं सकता। हिन्दू मुस्लिम एकता को कोई तोड़ नहीं सकता।गौरतलब है कि राखी का एक धागा भाइयो को बहनों की रक्षा का संकल्प दिलाता दिलाता है। ये वहीं राखी है, जिसे मेवाड़ की रानी कर्मवती ने मुग़ल शासक हुमांयु को भेज कर अपने राज्य की रक्षा का संकल्प दिलाया था और हुमांयु ने राखी की धागे की लाज रखी थी और मेवाड़ की तरफ आंख उठा कर नहीं देखा था। फ़िलहाल गोरखपुर में मुस्लिम समाज के युवकों ने हिन्दू बहनों से राखी बंधवा कर गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल पेश की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *