प्रदेश

गोरखपुर में स्‍पोर्ट्स की दुकान से अवैध पटाखा का जखीरा बरामद लाखों का माल जप्‍त

रिपोर्ट:-रविन्द्र चौधरी

 

कुशीनगर में रिहायशी इलाके में अवैध पटाखा फैक्‍ट्री में विस्‍फोट में चार लोगों की मौत की घटना से सबक लेते हुए गोरखपुर प्रसाशन जाग उठा,गोरखपुर जिले में ऐसी घटनाएं न होने पाए इसके गोरखपुर में पटाखा फैक्ट्रियों और गोदामो पर प्रसाशन की छापेमारी लगातार जारी है,इसी के मद्देनजर शहर के बीचो-बीच रिहायशी इलाके में चल रही अवैध रूप से स्‍पोर्ट्स की दुकान में पुलिस ने छापा मारकर भारी मात्रा में पटाखा बरामद किया गया है।

इसकी कीमत 10 से 15 लाख रुपए बताई जा रही है।अवैध रूप से स्‍पोर्ट्स की दुकान के नीचे, ऊपर और पीछे गोदाम बनाकर भारी मात्रा में अवैध पटाखा रखा गया था।इसमें कुछ प्रतिबंधित पटाखे भी बरामद हुए हैं।पुलिस ने पटाखों को जप्‍त कर लिया है और आरोपी के खिलाफ मुकदमा लिखने की तैयारी कर रही है।

आपको बता दे कि गोरखपुर के कोतवाली इलाके के नखास चौक पर ओसामा एण्‍ड कंपनी के नाम से सद्दाम उर्फ रियाज पुत्र बुदन की स्‍पोर्ट्स की दुकान है।सिटी मजिस्‍ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्‍तव के नेतृत्‍व में दुकान पर छापेमारी की गई।सद्दाम के पास पहले पटाखा का लाइसेंस रहा है।

लेकिन,वो लाइसेंस रद्द हो चुका है।उन्‍होंने बताया कि पुलिस और अन्‍य लोगों की शिकायत के बाद यहां पर छापेमारी की कार्रवाई की गई है।चार दिन पहले पटाखा लदी मैजिक गाड़ी पुलिस ने पकड़ी थी।जो कथित रूप से यहीं पर लाई जा रही थी।उन्‍होंने बताया कि आज यहां पर छापेमारी में शिकायत सही मिली.


सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्‍तव ने बताया कि स्‍पोर्ट्स की दुकान की आड़ में दुकान के ऊपर,नीचे और पीछे अवैध रूप से पटाखा का भंडारण किया गया है। दुकान के पीछे गोदाम जैसा भी बनाया गया है।

 

उन्‍होंने बताया कि पटाखों की कीमत 10 से 15 लाख रुपए अनुमानित है।उन्‍होंने बताया कि जो प्रतिबंधित पटाखे हैं और चाइनीज पटाखे हैं,वो भी यहां पर लाए गए थे।सभी पटाखों को अवैध होने के कारण जप्‍त कर लिया गया है।


उन्‍होंने बताया कि इसका अनुमान लगाया जा रहा है कि कौन-कौन से कितने पटाखे हैं।उन्‍होंने बताया कि रिहायशी इलाके में इस तरह से पटाखे का भण्‍डारण करना गलत है।आज से दो-तीन साल पहले इनके यहां छापेमारी की कार्रवाई की गई थी।

उसी समय इनका लाइसेंस निलंबित हो गया था।उन्‍होंने बताया कि इसके बावजूद इनके द्वारा व्‍यापार किया जा रहा था।जो पूरी तरह से गलत है।इनके खिलाफ स्‍थानीय पुलिस को तहरीर देकर इनके खिलाफ गंभीर धाराओं में कार्रवाई की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *