फोटो

गोरखपुर में विश्व उर्दू दिवस के अवसर पर मदरसे में बच्चों को फल एवं मिठाईयां और कॉपी किताब देकर किया जागरूक

-गोरखपुर में आज कौमी एकता कमेटी के उपाध्यक्ष आफताब अहमद के नेतृत्व में विश्व उर्दू दिवस के अवसर पर असुरन पोखरा भेड़ियागढ़ गुलशन कादरिया मदरसे में बच्चों को फल एवं मिठाइयां और कॉपी, किताब देकर बच्चों से कहा कि उर्दू का महत्व बताते हुए भाषा के प्रति लोगों को जागरूक किया। हाफिज शाकिर अली एवं आफताब अहमद कहां की सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा गीत लिखने वाले डॉ. सर अल्लामा मुहम्मद इकबाल के जन्मदिवस के अवसर पर हर साल 9 नवंबर को पूरी दुनिया में विश्व उर्दू दिवस मनाया जाता है।

उन्होंने बताया कि उर्दू एक भाषा के साथ साथ तहजीब संस्कृति है। उर्दू भाषा हमारी गंगा जमुनी संस्कृति की पहचान है। हमें उर्दू के बढ़ावे के लिए इसका ज्यादा से ज्यादा दैनिक जीवन में उपयोग करना चाहिए। राष्ट्र प्रेम से ओत प्रोत कौमी तराना सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना हिन्दी है हम वतन है हिंदोस्तां हमारा आदि रचनाएं भी उर्दू भाषा में स्वर्गीय अल्लामा इकबाल ने लिखी थी। उर्दू भाषा दुनिया भर के 250 से अधिक देशों में बोली व समझी जाती है। उर्दू भाषा बहुत ही सरल व आसानी से भावार्थ के कारण अधिकतर भारतीय कानून में भी उर्दू भाषा का काफी चलन है। हमें चाहिए कि हम भी अपने दैनिक जीवन में उर्दू भाषा का चलन आम करें। इस मौके पर हाफिज शाकिर अली, हाफिज मोहम्मद उमर बरकाती, मुन्ना अंसारी, आफरीन खातून, तौफीक अहमद, अरमान अहमद, मोहम्मद हसन, सलाउद्दीन अंसारी, जफर आलम, सैयद इरफान अली, अंजुम भाई, मोहम्मद सैफ, आदि लोग उपस्थित रहे!….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *