प्रदेश

हाथरस की घटना के बाद मुरादाबाद सांसद डॉ एस टी हसन ने कहा अब प्रदेश में कानून व्यवस्था जैसी कोई चीज नहीं है

रिपोर्ट:-शारिक सिद्दीकी

 

उत्तर प्रदेश के हाथरस जनपद में बच्ची के साथ हुई दरिंदगी को लेकर जहां पूरे देश में आक्रोश है,वही विपक्ष के नेता सत्ताधारी पार्टी पर जमकर निशाना साध रहे हैं, मुरादाबाद के सांसद डॉ एसपी हसन ने प्रदेश में हो रही घटनाओं को लेकर कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है कानून व्यवस्था पूरी तरीके से चौपट हो गई है, जब प्रदेश में अधिकारी खुद रंगदारी मांगने लगी है तो आपको अंदाजा लगा सकते हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था कैसी है।


मुरादाबाद के समाजवादी से सांसद डॉक्टर एसपी हसन ने हाथरस में हुई घटना को लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि इस वक्त प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है, जब कानून का खौफ अपराधियों के दिल से खत्म हो जाता है तो ऐसे भयानक अपराध किया करते हैं, प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए सांसद ने कहा जब पुलिस के ही अधिकारी लोगों से रंगदारी मांगी तो आप खुद समझ सकते हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था किया है, हाथरस में हुई घटना को लेकर कहा जो वहां दरिंदगी हुई है, वह बहुत अफसोस नाक है

पूरी समाजवादी पार्टी और हम सभी लोग दलित भाइयो और उस बेटी के साथ हैं, और हमारा प्रयास यही है कि हम उस बेटी को जल्द से जल्द इंसाफ दिला पाए, घटना को अंजाम देने वाले लोगों को उनके अंजाम तक जल्द से जल्द पहुंचाया जाए,हाथरस जिला प्रशासन पर पूछे गए सवाल पर डॉ एसटी हसन सांसद मुरादाबाद ने कहा के वहां का जिला प्रशासन तो अभी भी यही कह रहा है, कि उस लड़की के साथ कोई दरिंदगी नहीं हुई है, जब प्रशासन के हालात इतने निम्न स्तर पर आ गए हैं, तो कोई क्या कर सकता है और कोई क्या कर सकता है, क्या इंसान को अपने लिए इंसाफ मांगने की भी इजाजत है, क्या हम एक प्रजातंत्र देश में रहते हैं, यह बात तो हमें अब सोचना पड़ेगा कि हम डिक्टेटर वाले प्रदेश में रह रहे हैं ।

क्या,जब अधिकारी कहने लगे ऐसी दरिंदगी वाली घटना के लिए के उसका बलात्कार नहीं हुआ उसकी रीढ़ की हड्डी नही टूटी है जबान नहीं काटी है हो शायद यह हो सकता है कि बात सच हो लेकिन यह बात पोस्टमार्टम में नहीं आए, जब गरीब को इंसाफ नहीं मिलता है तो कहीं ना कहीं ऊपरवाला इंसाफ करता है और उसके इंसाफ में आवाज़ नहीं हुआ करती और उसका हिसाब इस तरीके का होता है कि लोगों की रूह कांप जाती है।भूल ही प्रधानमंत्री मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ महिलाओं को सुरक्षा देने के लिए लाख दावे करते हैं, और प्रयास करते हो लेकिन हाथरस में हुई दलित युक्ति के साथ हुई घटना के बाद प्रदेश में जंगलराज लग रहा है कहीं ना कहीं हाथरस जिला प्रशासन की भी एक बहुत बड़ी लापरवाही है, अब देखना यह होगा कि दरिंदगी करने वाले लोगों पर कब तक उनको अपनी करने की सजा मिलती है और लापरवाही बरतने वाले प्रशासनिक अधिकारियों पर प्रदेश के मुख्यमंत्री क्या कार्यवाही करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *