फोटो

लव जिहाद के आरोप में जेल गए दोनों भाई कोर्ट के आदेश पर हुए रिहा बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने जबरदस्ती सौंपा था पुलिस को

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जनपद के कांठ थाना मैं जबरन धर्म परिवर्तन (लव जिहाद) का मुकदमा पुलिस ने दर्ज किया था जिसके आधार पर दो आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था पुलिस ने युवती के बयान कोर्ट में दर्ज कराएं तो यूपीयुवती ने सीजीएम कोर्ट में जज के सामने युवती ने जानकारी दी कि उसने 5 महीने पहले निकाह कर लिया है,और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जबरदस्ती उन्हें उठाकर पुलिस को सौंप दिया है, जिसके बाद कोर्ट ने युवती को ससुराल पक्ष के लोगों को सौंप दिया है जिसके बाद भाइयों की रिहाई हुई है।

मुरादाबाद जनपद के कांठ थाना क्षेत्र में जबरन धर्म परिवर्तन और लव जिहाद के आरोप में गिरफ्तार हुए दोनों आरोपियों को आज पुलिस ने रिहा कर दिया है, युवती के कोर्ट में बयान दर्ज हुए थे जिसके बाद दोनों ही लड़कों को कोर्ट से रिहाई मिली है आज दोनों ही लड़कों को जेल से रिहा करा गया है, लव जिहाद के आरोप में जेल गए राशिद से जब बात की तो उसका कहना था,पिंकी और राशिद ने दोनों ने अपनी मर्जी से शादी की थी, पुलिस ने हमें गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था और 15 दिन बाद हमारी रिहाई हुई है, गर्भपात को लेकर राशिद का कहना था उसे बहुत अफसोस है कि इस पूरे विवाद में उसका बच्चा खत्म हो गया है।


राशिद
पिंकी

वहीं पीड़ित के अधिवक्ता से बात की तो उनका कहना था पुलिस ने फर्जी मुकदमा लिख कर दोनों भाइयों को गलत जेल भेजा है, लड़की ने पहले ही पुलिस के सामने कह दिया था कि वह बालिग है उसने अपनी मर्जी से शादी की है उसके बाद पुलिस ने इन्वेस्टिगेशन की और लड़कों के खिलाफ कोई भी सबूत नहीं मिला है, बात उन्होंने 169 की रिपोर्ट सीजीएम कोर्ट में पेश करी है, और सीजीएम कोर्ट में जज साहब ने उसे एक्सेप्ट करा और 50-50 हजार के मुचलके के बाद उन्हें रिहाई के आदेश दे दिए हैं।

मोहम्मद इकबाल (बचाओ पक्ष अधिवक्ता)

मुरादाबाद के कांठ थाने में जबरन धर्म परिवर्तन और लव जिहाद की जानकारी युवती की मां ने पुलिस को दी थी जिस आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करा था जिसके बाद दोनों ही आरोपियों को जेल भेज दिया था एसएसपी मुरादाबाद ने जानकारी देते हुए बताया था, कि युवती की माँ द्वारा पुलिस को जानकारी दी गई थी कि उनकी बेटी का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है और उससे राशिद नाम का लड़का शादी कर रहा है जिस की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज करके दोनों आरोपियों को गिरफ्तारय करके जेल भेज दिया गया था, और युक्ति को नारी निकेतन भेजा गया है।

प्रभाकर चौधरी (एसएसपी मुरादाबाद) (फाइल बाइट)

युवती ने आरोप लगाया है कि उसका अस्पताल में गलत इंजेक्शन लगाया गया था जिससे उसके गर्भ में पल रहा बच्चे की मौत हो गई है जिसके बाद बाल संरक्षण आयोग ने इसका संज्ञान लिया था और सीएमएस मुरादाबाद निर्मला पाठक ने युवती की दोबारा जांच कराई थी और जानकारी देते हुए बताया था कि युवती को जो इंजेक्शन हॉस्पिटल में दिए गए थे वह उसको जो दर्द हो रहा है इसलिए लगाए गए थे हॉस्पिटल में लगाए गए आरोप सीएमएस ने गलत बताए हैं।

निम्राल पाठक ( सीएमएस महिला जिला अस्पताल मुरादाबाद) (फाइल वाइट)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *