प्रदेश

मुकुट पूजन और नारद मोह के भावपूर्ण मंचन के साथ शुरु हुई रतसर की ऐतिहासिक रामलीला

रिपोर्ट:-संजय कुमार तिवारी

 

बलिया स्थानीय नगर पंचायत के श्री बीका भगत सेवा संस्थान द्वारा संचालित रामलीला का ऐतिहासिक मंचन शुक्रवार की शाम पहले दिन मुकुट पुजा, नारद मोह आदि का भावपूर्ण मंचन भगवान विष्णु के आरती के साथ शुरू की गई। रामलीला समिति की तरफ से मुख्य अतिथि सुभासपा नेता एवं नगर पंचायत प्रत्याशी पवन सिंह ने फीता काटकर पूजा अर्चना के बाद रामलीला के मंचन का शुभारंभ किया। वैदिक मंत्रों व विधि-विधान से कमेटी के अध्यक्ष ने राम-लक्ष्मण व सीता का पूजन किया इसके बाद से समिति समेत कस्बा के लोगों ने मुकुट पूजन किया। मौजूद लोगों ने जय श्री राम के जयघोष के नारे लगाए इसके बाद स्थानीय कलाकारों ने नारद मोह की लीला का मंचन किया।

जिसकी प्रस्तुति में नारद के बंदर रुप को देखकर दर्शक खुशी से लोट पोट हो गए। नारद के अभिमान को तोड़ने के लिए विष्णु भगवान ने नारद को बंदर का रुप दे दिया था। इसके बाद शीलनिधि के राजा की पुत्री विश्वमोहिनी की शादी का मंचन होता है। राजा के दरबार में बंदर के रूप में नारद को देख लोग खूब हंसते है। सभा में भगवान शंकर के भेजे गए दो गणों ने नारद मुनि को उनका बन्दर वाला चेहरा दिखाते है। इस रूप को देख नारद मुनि क्रोधित हो जाते है और वहां से चले जाते है साथ ही नारद मुनि श्राप देते है कि तुझे मनुष्य का जन्म लेना पड़ेगा। जिस प्रकार तुमने मुझे पत्नी वियोग दिया है उसी प्रकार तुम पत्नी वियोग में भटकोगे तब बन्दर तुम्हारी सहायता करेगें। साथ ही दोनों गणों को श्राप देते है कि जाओ तुम दोनो त्रेतायुग में राक्षस बन जाओगे। इस दौरान संतोष भाई, अतुल प्रताप सिंह, मनोज सिंह,अमित यादव, डा. प्रवीण सिंह, सुनील पाण्डेय,अभिषेक वर्मा,नईम अख्तर,अनिल गुप्ता, फैयाज अहमद, सुनील सिंह मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *