प्रदेश

पीलीभीत श्रीराम मंदिर निर्माण के नाम पर फर्जी रशीद छपवाकर धन उगाही करने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

रिपोर्ट:-सरताज सिद्दीकी

यूपी के पीलीभीत में श्रीराम मंदिर निर्माण के नाम से फर्जी रसीद छपवाकर लोगों से धन वसूली करने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। उसने खुद को वीर हिंदू युवा संगठन का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताया।उसके खिलाफ विश्व हिंदू परिषद के कार्य अध्यक्ष ने सुनगढ़ी थाने मे रिपोर्ट दर्ज कराई है।अब पुलिस को आरोपी के 4 और साथियों की तलाश है।

श्रीराम मंदिर बनने की खबर से राम भक्त उत्साहित हैं मंदिर निर्माण के लिए लोग अपनी श्रद्धानुसार दान दे रहे हैं। ऐसे में कुछ फर्जी संगठन भी फायदा उठाने काे लेकर सक्रिय हाे गए है।

ऐसा ही मामला पीलीभीत से भी सामने आया है यहां वीर हिन्‍दू युवा संगठन के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ने फर्जी रसीदें छपवाकर राम मन्दिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करना शुरू कर दिया था।

बाद में जब संघ और विहिप की टीमें चंदा लेने पहुंची तो मामले का खुलासा हुआ। इसके बाद विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष अमरीश मिश्रा ने थाना सुनगढ़ी में तहरीर दी। कि श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण कार्यक्रम की कूट रचित तरीके से रसीद बुक छपवा कर मोहल्ले में लोगों से धन इकट्ठा कर रहे हैं।

विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष अमरीश मिश्रा ने बताया कि अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण अभियान चलाया जा रहा है। इससे टीमें घर-घर जाकर निधि समर्पण के लिए लोगों से संपर्क कर रही है। दो दिन पहले आरएसएस की एक टीम काला मंदिर मोहल्ले में सहयोग राशि लेने पहुंची थी।

वहां पता चला कि खुद को वीर हिंदू युवा संगठन का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताने वाला नौगवां पकड़िया मोहल्ला निवासी ठाकुर रविंद्र सिंह, उसी संगठन का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ठाकुर शक्ति सिंह, महामंत्री अजीत सिंह, कोषाध्यक्ष पंकज पटेल और सचिव रवि कुमार सहयोग राशि के नाम पर वसूली करके ले गए।

उनकी ओर से रसीद भी दी गई, जो फर्जी बताई जाती है। रसीद पर उनके संगठन का नाम और पता लिखा है।जिसके बाद पुलिस ने तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर मुख्य आरोपी ठाकुर रविंद्र सिंह को मंडी समिति गेट के पास से गिरफ्तार कर लिया।पुलिस के मुताबिक अन्य आरोपी मौके से भाग गए।पुलिस उन्हें भी तलाश रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *