उत्तराखंड

तेज तर्रार अफसरों मे शुमार होता है देहारादून के नए DM का नाम, जानिए IAS आर राजेश कुमार की पहली नियुक्ति से DM बनने तक का सफर

न्यूज़ एडीटर
(MTV bharat)
देहरादून:उत्तराखंड मे एक तरफ जहां तेज तर्रार सीएम उत्तराखंड मे अनेक काम जनता के हित के लिए कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ काबिल अधिकारियों को भी जनता की सेवा करने का मौका दे रहे हैं। आपको बता दें सीएम धामी ने 24 IAS अधिकारियों के तबादले उनकी काबिलियत के मुताबिक करके ये साबित कर दिया की एक तरफ जहां सीएम जनता के दुख दर्द दूर करने मे लगे हैं वहीं दूसरी तरफ अफसरों को भी उनकी योग्यता और काम को ध्यान मे रख कर ही विभागों मे दायित्व दे रहे हैं। आर राजेश कुमार का जन्म मदुरै तमिलनाडु मे हुआ था उनके पिता का नाम डॉ। वी एन राजन है। उन्होने ग्रेजुएशन की शिक्षा पशुचिकित्सा मे ग्रहण की उसके बाद 2007 के बेच मे उत्तराखंड कैडर से आइ ए एस बने । राजेश कुमार को इंग्लिश तमिल, हिन्दी, तेल्गु, भाषाओ का ज्ञान भी है।

उन्होने 2007 से 2009 तक मसूरी के लाल बहादुर शास्त्री आईएएस अकादमी मे ट्रेनिंग ली। उनकी सबसे पहली नियुक्ति 2008 मे उत्तराखंड के टिहरी जिले मे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के रूप मे हुई। इस पद पर वो 2009 तक कायम रहे । उसके बाद 2009 मे ही उन्हे उत्तरकाशी मे जाइंट मजिस्ट्रेट का पद मिला और अगस्त 2010 तक उन्होने इस पद पर काम किया । अगस्त 2010 मे उन्हे पिथौरागढ़ जिले मे जिला मुख्य विकास अधिकारी बना दिया गया।

राजेश कुमार की काबिलियत को देखते हुए उन्हे नंबर 2011 मे उन्हे डीएम बनाया गया वो अप्रैल 2012 तक अपने पद पर आसीन रहे। उसके बाद उन्हे जुलाई 2013 तक उत्तरकाशी मे जिलाधिकारी बनाया गया जहां पहाड़ी जिले मे उन्होने बड़ी ही खूबी के साथ अपनी जिम्मेदारियों को निभाया और जनता की सेवा की।

आपको बता दें जुलाई 2013 से राजेश कुमार को GMVN के एमडी पद की ज़िम्मेदारी सौंपी गई उसके बाद लगातार राजेश कुमार को उनकी काबिलियत के मुताबिक पद मिलते रहे। डॉ आर राजेश कुमार सिडकुल के एमडी पद पर रहने के बाद वो स्किल डेवलेपमेंट के निदेशक, सिंचाई और पेयजल विभाग के प्रभारी सचिव, पेय जल निर्माण निगम के एमडी, अपर सचिव नागरिक उड्डयन के साथ साथ अन्य महत्वपूर्ण पद पर रहे और नए कीर्तिमान स्थापित किए। आपको बता दें अब जुलाई 2021 मे डॉ. आर राजेश कुमार देहरादून के नए जिलाधिकारी बनाये गए हैं आपको बता दें देहरादून का जिम्मा राजेश कुमार की काबिलियत को देखते हुए दिया गया है।

आर राजेश कुमार स्वभाव के नरम और और अपने काम के प्रति सजग माने जाते हैं। डॉ आर राजेश कुमार ने सिडकुल के एमडी रहते हुए सिडकुल मे नया आयाम स्थापित किया वो स्किल डेवलेपमेंट के निदेशक भी रहे हिन आपको बता दें की उत्तराखंड स्किल डेवलपमेंट मे रहते हुए डॉ आर राजेश कुमार ने स्किल डेवलपमेंट के तहत योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने मे और उनका लाभ दिलाने मे कोई कसर नहीं छोड़ि यानि कुल मिलकर आर राजेश कुमार के सानिध्य मे देहरादून मे भी विकास कार्यों को और गति मिलेगी। क्योंकि पदभार ग्रहण करने के बाद वो मीडिया से रुबरु होकर नए डीएम डॉ. आर राजेश ने पद ग्रहण करने के बाद अपनी मुख्य ज़िम्मेदारियां बताई, साथ ही दून के नए डीएम एक्शन में दिखे। डीएम ने सभी अधिकारियों को दी चेतावनी कि सभी अधिकारी आम जनता से मधुर व्यवहार रखे और जनता की हर समस्या का तत्काल निस्तारण करें। डीएम ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर किसी अधिकारी का व्यवहार आम जनता के प्रति मधुर नहीं होगा तो उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है।

उत्तराखंड में पलायन के बाद कोरोना का मार झेल रहे देव भूमि देहरादून में स्किल डेवलपमेंट के माध्यम से हजारों की संख्या में लोगों को स्किलड और कई विभिन्न विभागों में नौकरियों में लगाने का कुशल कार्य स्किल डेवलपमेंट के माध्यम से किया गया

पूरा देश मे जब कोरोना काल में त्राहि-त्राहि मच रहा था तो उत्तराखंड में उस समय रामडीसीर इंजेक्शन की कमान संभाले डॉक्टर राजेश कुमार पूरे प्रदेश के 13 जिले में रमडीसीर इंजेक्शन की मॉनिटरिंग कर रहे थे कुशल प्रबंधन और नेतृत्व क्षमता के दम पर उन्होंने 13 जिलो के जरूरतमंद को इस इंजेक्शन का उपयोग करवाया।

हर जरूरतमंद व्यक्ति को इंजेक्शन पहुंचाने का कुशल प्रबंधन का कार्य का इनाम आज डॉक्टर राजेश कुमार को देहरादून डीएम के रूप में मिला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *