अन्तर्राष्ट्रीय

यूएई के ख़िलाफ़ यमनियों के आप्रेशन पर दुनिया ने क्या कहा?

17 जनवरी 2022 को यमनियों ने संयुक्त अरब इमारात के विरुद्ध यमनियों का तूफ़ान नामक आप्रेशन अंजाम दिया जिस पर व्यापक स्तर पर प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों ने बारम्बार की चेतावनी के बाद संयुक्त अरब इमारात के भीतर महत्वपूर्ण ठिकानों पर मीज़ाइलों और ड्रोन विमानों से हमले किए। आप्रेशन के दौरान अबूधाबी के अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट और तेल रिफ़ाइनरी सहित महत्वपूर्ण ठिकानों को निशान बनाया गया जिसमें तीन लोग मारे गये और 6 अन्य घायल हुए। यमनियों के इस आप्रेशन ने पूरी दुनिया में हंगामा मचा दिया।

प्रतिरोधकर्ता गुटों ने संयुक्त अरब इमारात की शैतानियों और यमन के मामलों सहित क्षेत्र के मामलों में उसके हस्तक्षेप की निंदा करते हुए इस कार्यवाही को यमनियों की विजय क़रार दिया। नोजबा आंदोलन की राजनैतिक परिषद के प्रमुख शैख़ अली अलअसदी ने ट्वीट किया कि संयुक्त अरब इमारात के मुक़ाबले में मिलने वाली कामयाबी पर जो क्षेत्र में साम्राज्यवादियों का पिट्ठु और शैतानों का चेला है, हम यमन की राष्ट्री सरकार में अपने स्वतंत्रताप्रेमी भाईयों को बधाई देते हैं।

अरब देशों ने या तो मौन ही धारण कर लिया या यमनियों की कार्यवाही की निंदा की। संयुक्त अरब इमारात ने दावा किया कि हूसियों की कार्यवाहियों ने क्षेत्र की स्थिरता को कमज़ोर कर दिया है और इससे क्षेत्र की जनता के भविष्य को नुक़सान पहुंचेगा।

इसी मध्य सऊदी अरब की ओर से सबसे कड़ी प्रतिक्रिया सामने आई। सऊदी अरब के विदेशमंत्रालय ने यमन के ख़िलाफ़ हमलों की अनदेखी करते हुए दावा किया कि अलहूसी छापामार, दुनिया और क्षेत्र की शांति, स्थितरता और सुरक्षा के लिए ख़तरा बन गये । सऊदी अरब ने संयुक्त अरब इमारात का साथ देने का एलान करते हुए यमन पर भीषण हमले किए जिसमें महिलाओं और बच्चे सहित 12 लोग मारे गये। क्षेत्र की ग़ैर अरब सरकारों में तुर्की भी है जिसने यमनियों के हमले की निंदा की। तुर्की के विदेशमंत्री चाऊश ओग़लू ने अबूधाबी के ख़िलाफ़ यमन की कार्यवाही को आतंकवादी क़रार दिय।

अमरीका और कुछ यूरोपीय सरकारों की ओर से भी इस हमले पर प्रतिक्रिया सामने आई। अमरीकी विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने अबूधाबी के यमनी सेना के हमलों की निंदा करते हुए दावा किया कि इस हमले में अबूधाबी के एयरपोर्ट सहित सार्वजनिक स्थानों को निशाना बनाया गया।

बहरहाल संयुक्त अरब इमारात यमन की जंग में पूरी तरह शामिल है और यमनी अधिकारियों ने इज़्ज़त के साथ धीरे धीरे इस देश को यमन से निकलने का मौक़ा दिया लेकिन यूएई अलग की रोब में था, यमनी सेना की हालिया कार्यवाही ने उसकी सारी हेकड़ी निकाल दी। (AK)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *